स्वास्थ्य रचना

आंवले के विभिन्न व्यंजन

0 Comments
आंवले के विभिन्न व्यंजन
बहुपयोगी अमृतफल आंवला अपने अचूक गुणों के कारण ही आयुर्वेदिक चिकित्सकों द्वारा अपनाया जाता रहा है। यह स्वाद में बेशक कुछ कसैला सा प्रतीत होता है लेकिन स्वास्थ्य की दृष्टि से एक लाभकारी औषधि है। वात, पित्त व कफ नाशक आंवला रक्त की गर्मी को शान्त करता है, भूख बढ़ाता है तथा अनेकों रोगों को दूर भगा देता ह...

मधुमेह का उपचार

0 Comments
मधुमेह का उपचार
पुराने समय में बीमारियां इतनी ज्यादा और इतनी व्यापक न थी, जितनी वर्तमान काल में हंै। चूंकि उन दिनों आहार में 'फास्ट फूडÓ या 'जंक फू डÓ जैसा कुछ न था और ना ही बैठे-बैठे काम करते हुए दैनिकचर्या बिताने की सुविधा थी। मनुष्य मोटा खाता और मोटा ही पहनता था। दिनभर हाड़तोड़ मेहनत करता था, यानी जीवन बहुत सरल ...

हिचकियों पर ब्रेक लगाने वाला नुस्खा

0 Comments
हिचकियों पर ब्रेक लगाने वाला नुस्खा
जनमानस में यह विश्वास किया जाता है कि हिचकियां तब आती हैं जब उसे कोई प्रियजन याद करता है। इस विश्वास में कितनी सत्यता है, कहा नहीं जा सकता। हिचकी को आयुर्वेद में 'हिक्काÓ कहकर इसे रोग के अन्तर्गत माना गया है। माना जाता है, कि हिक्का रोग पेट में समान वायु तथा गले में उदान वायु के प्रकोप से उत्पन्नहोत...

सौंदर्य जो अन्दर से झांके

0 Comments
सौंदर्य जो अन्दर से झांके
हम सबने अनुभव किया होगा कि रोगावस्था में चेहरा कांतिहीन और त्वचा बेजान दिखाई देती है, जबकि स्वस्थावस्था में ऐसा नहीं होता। जो लोग अच्छा खाने-पीने के बावजूद मानसिक चिनताओं, कुंठाओं की चपेट में रहते हैं उनकी त्वचा समय से पहले ही बुढ़ाने लगती है उस पर कालिमा छाने लगती है और झुर्रियां पडऩे लगती हैं।&nbs...

मानवता का रक्षक, जिसे कभी शैतान तक कहा गया

0 Comments
मानवता का रक्षक, जिसे कभी शैतान तक कहा गया
आलू का इतिहास हजारों साल पुराना है इसलिये यदि कहा जाये 'जब तक समुद्र में बालू रहेगा, तब तक जगत में आलू रहेगाÓ अतिश्योक्ति नहीं होगा। आलू अपनी विलक्षण गुणवत्ता के कारण आज दुनियाँ का सर्वोत्तम खाद्य है। वैज्ञानिकों का तथा वैज्ञानिक आधार पर भविष्यवाणी करने वालों का दृढ़ विचार है कि बढ़ती महंगाई और आबाद...

सुखद बुढ़ापे के उपाय

0 Comments
सुखद बुढ़ापे के उपाय
चिंताज्वरो मनुष्याणां क्षुधां निद्रां बलं हरेत।रुपमुत्साह बुद्धि श्रीं जीवितं चन संशया।।स्कन्द पुराण के इस सूत्र में सहजता से यह बता दिया गया है कि चिन्ताज्वर भूख, निद्रा, शक्ति, सुन्दरता, उत्साह, वृत्ति, बुद्धि, लक्ष्मी और आयु-इन सबका नाशकर देता है।वास्तव में चिन्ता एक ऐसा ज्वर है जो किसी भी मनुष्य...

चलना ही जिन्दगी है

0 Comments
चलना ही जिन्दगी है
दिकाल से जिस रोग से मनुष्य सबसे ज्यादा परेशान रहा है, वह है जोड़ों का दर्द गठिया, आथ्र्राइटिस। आयुर्वेद में इन्हें वात यानी वायु के कुपित होने से पनपने वाले 'वातरोगÓ कहा गया है।     जोड़ों के दर्द की शिकायत आमतौर पर 50 साल के बाद देखने में आती है। बढ़ती उम्र में यह परेशानी बढ़ती ही जा...

आँखों से झांकती सेहत

0 Comments
आँखों से झांकती सेहत
यह सही है कि रोग निदान की नयी-नयी विधियाँ प्रचलन में आने से अब चिकित्सकों का काम आसान हो गया है। रोग की पहचान हो जाने से निर्धारित औषधि का सेवन कराके रोगी को शीघ्र स्वस्थ बना देना पहले से ज्यादा सरल है। यदि हम एक शताब्दी पूर्व की बात करें तो उस समय लक्षण देखकर ही रोग का अनुमान लगाया जाता था। बड़े-बड...

चमत्कार को नमस्कार

0 Comments
चमत्कार को नमस्कार
वैराग्य के मार्ग पर चलने वालों की द्दष्टि में वे व्यक्ति अज्ञानी हैं जो अपने शरीर का मोह करते हैं। उनकी नजर में यह शरीर तो रोगों का घर है। इसमें हड्डियों के खम्भे लगे हैं। स्नायु जाल से यह बंधा है। मांस और रक्त इस पर थोप दिया गया है। चमड़े से मढ़ दिया गया है। यह मल-मूत्र से सदा ही पूर्ण रहता है। इसस...

अलसी के चमत्कारिक उपयोग

0 Comments
अलसी के चमत्कारिक उपयोग
भारत देश के कुछ प्रांतों में अलसी का तेल खाद्य तेलों के रूप में आज भी प्रचलन में है। धीरे-धीरे अलसी को हम भूलते जा रहे हैं, परंतु अलसी पर हुए नए शोध-अध्ययनों ने बड़े चमत्कारी प्रभाव एवं चैंकाने वाले तथ्य दुनिया के सामने लाए हैं। आज सारे संसार में इसके गुणगान हो रहे हैं। विशिष्ट चिकित्सकों की...
Showing 21 to 30 of 32 (4 Pages)