Article

आँखों से झांकती सेहत

0 Comments
आँखों से झांकती सेहत
यह सही है कि रोग निदान की नयी-नयी विधियाँ प्रचलन में आने से अब चिकित्सकों का काम आसान हो गया है। रोग की पहचान हो जाने से निर्धारित औषधि का सेवन कराके रोगी को शीघ्र स्वस्थ बना देना पहले से ज्यादा सरल है। यदि हम एक शताब्दी पूर्व की बात करें तो उस समय लक्षण देखकर ही रोग का अनुमान लगाया जाता था। बड़े-बड...

चमत्कार को नमस्कार

0 Comments
चमत्कार को नमस्कार
वैराग्य के मार्ग पर चलने वालों की द्दष्टि में वे व्यक्ति अज्ञानी हैं जो अपने शरीर का मोह करते हैं। उनकी नजर में यह शरीर तो रोगों का घर है। इसमें हड्डियों के खम्भे लगे हैं। स्नायु जाल से यह बंधा है। मांस और रक्त इस पर थोप दिया गया है। चमड़े से मढ़ दिया गया है। यह मल-मूत्र से सदा ही पूर्ण रहता है। इसस...

अलसी के चमत्कारिक उपयोग

0 Comments
अलसी के चमत्कारिक उपयोग
भारत देश के कुछ प्रांतों में अलसी का तेल खाद्य तेलों के रूप में आज भी प्रचलन में है। धीरे-धीरे अलसी को हम भूलते जा रहे हैं, परंतु अलसी पर हुए नए शोध-अध्ययनों ने बड़े चमत्कारी प्रभाव एवं चैंकाने वाले तथ्य दुनिया के सामने लाए हैं। आज सारे संसार में इसके गुणगान हो रहे हैं। विशिष्ट चिकित्सकों की...

आपके पेट में भोजन पच रहा है, या सड़ रहा है

0 Comments
आपके पेट में भोजन पच रहा है, या सड़ रहा है
एक कहावत है ‘पहला सुख निरोगी काया’। स्वस्थ शरीर स्वस्थ दिमाग के निर्माण में सहायक होता है। स्वस्थ रहने की पहली शर्त है आपकी पाचन शक्ति का सुदृढ़ होना। भोजन के उचित पाचन के अभाव में शरीर अस्वस्थ हो जाता है, मस्तिष्क शिथिल हो जाता है और कार्यक्षमता को प्रभावित करता है। जिस प्रकार व्यायाम में ...

अनार के छिलकों का औषधीय महत्त्व

0 Comments
अनार के छिलकों का औषधीय महत्त्व
अनार के छिलकों का औषधीय महत्त्व बवासीर (अर्श) : • 10 ग्राम अनार के छिलके का चूर्ण बनाकर इसमें 100 ग्राम दही मिलाकर खाने से बवासीर ठीक हो जाती है या अनार के छिलकों का चूर्ण 8 ग्राम, ताजे पानी के साथ प्रतिदिन सुबह-शाम प्रयोग करें। अनार के छिलकों का चूर्ण नागकेशर के साथ मिलाकर सेवन करने से बवास...
Showing 31 to 35 of 35 (4 Pages)